moral stories

Moral Story In Hindi – किसी व्यक्ति की महानता उसके पहनावे पर नहीं, चरित्र और ज्ञान पर निर्भर करती हैं

moral story

moral stories

किसी व्यक्ति की महानता उसके पहनावे पर नहीं, चरित्र और ज्ञान पर निर्भर करती हैं – Moral Story in Hindi

एक बार की बात है किसी गाँव में एक पंडित रहता था| वैसे तो पंडित जी को वेदों और शास्त्रों का बहुत ज्ञान था लेकिन वह बहुत ग़रीब थे| ना ही रहने के लिए अच्छा घर था और ना ही अच्छे भोजन के लिए पैसे| (Hindi Moral Story For Kids)

उसकी एक छोटी सी झोपड़ी थी, उसी में रहते थे और भिक्षा माँगकर जो मिल जाता उसी से अपना जीवन यापन करते थे|

एक बार वह पास के किसी गाँव में भिक्षा माँगने गये,

उस समय उनके कपड़े बहुत गंदे थे और काफ़ी जगह से फट भी गये थे|

जब उन्होने एक घर का दरवाजा खटखटाया तो सामने से एक व्यक्ति बाहर आया,

उसने जब पंडित को फटे चिथड़े कपड़ों में देखा तो उसका मन घ्रणा से भर गया

और उसने पंडित को धक्के मारकर घर से निकाल दिया,

बोला- पता नहीं कहाँ से गंदा पागल चला आया है|

पंडित दुखी मन से वापस चला आया,

जब अपने घर वापस लौट रहा था तो किसी अमीर आदमी की नज़र पंडित के फटे कपड़ों पर पड़ी तो उसने दया दिखाई और पंडित को पहनने के लिए नये कपड़े दे दिए|

अगले दिन पंडित फिर से उसी गाँव में उसी व्यक्ति के पास भिक्षा माँगने गया|

व्यक्ति ने नये कपड़ों में पंडित को देखा

और हाथ जोड़कर पंडित को अंदर बुलाया

और बड़े आदर के साथ थाली में बहुत सारे व्यंजन खाने को दिए|

पंडित जी ने एक भी टुकड़ा अपने मुँह में नहीं डाला और सारा खाना धीरे धीरे अपने कपड़ों पर डालने लगे और बोले- ले खा और खा|

व्यक्ति ये सब बड़े आश्चर्य से देख रहा था,

आख़िर उसने पूछ ही लिया कि- पंडित जी आप यह क्या कर रहे हैं सारा खाना अपने कपड़ों पर क्यूँ डाल रहे हैं|

Related :- Moral story in Hindi for school student

पंडित जी ने बहुत शानदार उत्तर दिया- क्यूंकी तुमने ये खाना मुझे नहीं बल्कि इन कपड़ों को दिया है

इसीलिए मैं ये खाना इन कपड़ों को ही खिला रहा हूँ,

कल जब में गंदे कपड़ों में तुम्हारे घर आया तो तुमने धक्के मारकर घर से निकाल दिया

और आज तुमने मुझे साफ और नये कपड़ों में देखकर अच्छा खाना पेश किया|

असल में तुमने ये खाना मुझे नहीं, इन कपड़ों को ही दिया है, वह व्यक्ति यह सुनकर बहुत दुखी हुआ|

मित्रों, किसी व्यक्ति की महानता उसके चरित्र और ज्ञान पर निर्भर करती हैं पहनावे पर नहीं| अच्छे कपड़े और गहने पहनने से इंसान महान नहीं बनता उसके लिए अच्छे कर्मों की ज़रूरत होती है| यही इस कहानी की प्रेरणा है|

Source :- gyansagar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.